[ad_1]

कोविड-19 महामारी के कारण ऑस्ट्रेलिया की दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज रद्द होने के बाद न्यूजीलैंड मंगलवार को वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के फाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बन गई। ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट सीरीज अनिश्चितकाल के लिए स्थगित होने के बाद कोई भी टीम न्यूजीलैंड के 70 प्रतिशत प्वॉइंट्स को पार नहीं कर सकेगी। फाइनल में न्यूजीलैंड का सामना करने वाली टीम का फैसला भारत और इंग्लैंड के बीच शुक्रवार से चेन्नई में शुरू होने वाली चार मैचों की सीरीज से होगा। हालांकि, भारत के टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने के चांस ज्यादा हैं, क्योंकि फॉर्म को देखते हुए उनके लिए इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैच जीतना बड़ी बात नहीं होगी। इसके अलावा एक स्थिति में भारत इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीतने पर भी बाहर हो सकता है।

कीवी कप्तान केन विलियमसन ने बताया, क्यों वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल खेलने के लिए हैं उत्साहित

बता दें कि भारत को इस चैम्पियनशिप के फाइनल मुकाबले में जगह बनाने के लिए इंग्लैंड के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1, 2-0, 3-1, 3-0 या फिर 4-0 से जीत दर्ज करनी होगी। वहीं इंग्लैंड को उन्हें ऐसा करने के लिए भारत के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-1, 3-0 या 4-0 से जीत दर्ज करनी होगी। भारत अगर टेस्ट सीरीज में 1-0 से जीत दर्ज करता है तो वो बेशक सीरीज जीत जाए, लेकिन वो वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने का मौका गंवा देगा। भारत को फाइनल में पहुंचने के लिए किसी भी सूरत में सीरीज में दो मैच जीतने जरूरी हैं।

रिहाना ने किसान आंदोलन को लेकर किया ट्वीट, ओझा ने दिया करारा जवाब

भारतीय टीम फिलहाल 71.7 प्रतिशत प्वॉइंट्स के साथ टेबल में टॉप पर है, जबकि न्यूजीलैंड 70 और ऑस्ट्रेलिया 69.2 प्रतिशत प्वॉइंट्स के बाद क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर है। इंग्लैंड 65.2 प्रतिशत प्वॉइंट्स के साथ चौथे स्थान पर है। वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल मुकाबला 18 जून से ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान पर खेला जाएगा। टीम इंडिया अगर इस मैच को जीतने में कामयाब हो जाती है, तो विराट कोहली की अगुवाई में यह टीम का पहला आईसीसी खिताब होगा।
 

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here