[ad_1]

आयकर विभाग ने बुधवार को कहा कि उसने चालू वित्त वर्ष में अभी तक 1.41 करोड़ करदाताओं को 1.64 लाख करोड़ रुपये का रिफंड दिया है।    इसमें व्यक्तिगत आयकर रिफंड के रूप में 53,070 करोड़ रुपये की राशि शामिल है, जबकि इस दौरान कॉरपोरेट कर रिफंड के रूप में 1.10 लाख करोड़ रुपये से अधिक की राशि दी गई है।आयकर विभाग ने ट्वीट किया, ”सीबीडीटी ने एक अप्रैल 2020 से चार जनवरी 2021 के बीच 1.41 करोड़ से अधिक करदाताओं को 1,64,016 करोड़ रुपये से अधिक के रिफंड जारी किए।

यह भी पढ़ें: 100 रुपये की बचत से बन सकता है लाखों का फंड, जानें स्कीमों के बारे में

व्यक्तिगत आयकर रिफंड के 1,38,85,044 मामलों में 53,070 करोड़ रुपये जारी किए गए, जबकि कॉर्पोरेट कर रिफंड के 2,06,847 मामलों में 1,10,946 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।सरकार ने आईटीआर दाखिल करने की समयसीमा व्यक्तिगत आयकरदाताओं के लिए 10 जनवरी तक और कंपनियों के लिए 15 फरवरी तक बढ़ा दी है।

चार जनवरी तक 5 करोड़ से अधिक आयकर रिटर्न भरे गए

आयकर विभाग ने मंगलवार को कहा कि वित्त वर्ष 2019-20 के लिये चार जनवरी तक 5 करोड़ से अधिक आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल किए गए।  सरकार ने लोगों के लिये आयकर रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा बढ़ाकर 10 जनवरी और कंपनियों के लिये 15 फरवरी कर दी है। आयकर विभाग ने ट्विटर पर लिखा है, ”आकलन वर्ष 2020-21 के लिये 5.01 करोड़ से अधिक आयकर रिटर्न 4 जनवरी, 2021 तक भरे जा चुके हैं।

यह भी पढ़ें: ITR: जल्दी भरें रिटर्न वर्ना अंतिम तारीख के बाद लगेगा दोगुना जुर्माना

वहीं, वित्त वर्ष 2018-19 के लिये आईटीआर भरने की समयसीमा 31 अगस्त थी और उसके लिये 5.63 करोड़ से अधिक आयकर रिटर्न जमा किए गए।  आंकड़े के विश्लेषण से पता चलता है कि 2019-20 के लिये व्यक्तिगत तौर पर आयकर रिटर्न भरने की गति कुछ धीमी है जबकि कंपनियों तथा ट्रस्ट के मामले में बढ़ी है। चार जनवरी 2021 तक 2.7 करोड़ आईटीआर-1 दाखिल की गई। यह चार सितंबर 2019 तक भरी गई 3.09 करोड़ के मुकाबले कम है।  वहीं चार जनवरी तक 1.04 करोड़ आईटीआर- 4 दाखिल की गई जबकि 4 सितंबर 2019 तक 1.28 करोड़ आईटीआर- 4 दाखिल की गई थी। 



[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here