[ad_1]

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय अपने 94 साल के जीवनकाल में पूरी दुनिया की सैर कर चुकी हैं। खाने-पीने की शौकीन होने के कारण उन्हें अलग-अलग देशों के पारंपरिक और गैर-पारंपरिक पकवानों का लुत्फ उठाने का भी मौका मिला है। हालांकि, बात जब अपने पसंदीदा खाने का खुलासा करने की आती है तो वह मौन धारण कर लेती हैं।

बकिंघम पैलेस से जुड़े सूत्रों के मुताबिक महारानी को लगता है कि अगर उन्होंने मन को भाने वाले पकवान सार्वजनिक कर दिए तो शाही दौरों पर उन्हें वही व्यंजन परोसे जाएंगे। मेजबान उन्हें खुश करने की कोशिश में इन्हीं पकवानों की मेज सजाएंगे। इससे वह नए और अलग तरह के पकवानों का लुत्फ नहीं उठा पाएंगी, जो कि अधिक स्वादिष्ट भी हो सकते हैं। 

‘द टेलीग्राफ’ के पूर्व शाही पत्रकार गॉर्डन रेनर ने बताया कि वह महारानी एलिजाबेथ के साथ 20 से ज्यादा विदेशी दौरों पर जा चुके हैं। इस दौरान उन्हें पता चला कि एलिजाबेथ अपने पसंदीदा पकवान से जुड़े सवालों से इसलिए भागती हैं, क्योंकि वह नहीं चाहतीं कि हर यात्रा पर उनके सामने वही खाना परोसा जाए। मालूम हो कि राजकुमारी डायना एक बार भूनी सालमन मछली को अपना पसंदीदा खाना बताकर फंस चुकी थीं। वह जहां भी जाती थीं, उनके सामने भूनी सालमन मछली ही पेश की जाती थी।

-हर शाही दौरे पर एक ही जैसा खाना खाने से बचना चाहती हैं एलिजाबेथ
-डायना को भाती थी भूनी सालमन मछली, हर दौरे पर यही परोसी जाती थी।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here