[ad_1]

18 फरवरी 1933 को आगरा में जन्मीं निम्मी (Nimmi) की गिनती अपने वक्त की सुपरहिट अभिनेत्रियों में होती थी। एक वक्त ऐसा था जब हर एक अभिनेता निम्मी के साथ काम करना चाहता था, लेकिन निम्मी का एक फैसला उनके चमचमाते करियर के लिए घातक साबित हुआ और निम्मी का स्टारडम धीरे- धीरे कम हो गया।

एक गलती पड़ी करियर पर भारी
50-60 के दशक में निम्मी हर निर्देशक की पसंद थी। लेकिन सिनेमाई करियर में लिया गया एक फैसला उनके करियर पर भारी पड़ा। दरअसल निर्देशक हरमन सिंह रवैल ‘मेरे महबूब’ नाम की फिल्म बना रहे थे, जिसमें राजेंद्र कुमार के अपोजिट वो निम्मी को कास्ट करना चाहते थे, लेकिन निम्मी फिल्म में राजेंद्र कुमार की बहन, जो कि सेकेंड लीड रोल था करना चाहती थीं। काफी मनाने पर भी जब निम्मी नहीं मानी, तो लीड रोल में साधना को कास्ट किया गया और निम्मी को सेकेंड लीड में ले लिया गया। इस फिल्म के बाद जहां साधना के लिए नए दरवाजे खुल गए तो वहीं दूसरी ओर निम्मी के करियर की गाड़ी धीमी पड़ गई।

निम्मी को क्यों कहते थे The Unkissed Girl of India? जानिए पूरा किस्सा और अभिनेत्री का असली नाम

तबस्सुम की वजह से नवाब बानो बनीं ‘निम्मी’
नवाब बानो को राज कपूर ने निम्मी नाम दिया था। इसका मजेदार किस्सा तबस्सुम ने सुनाया था। ‘तब्बसुम टॉकीज’ में तबस्सुम ने बताया था कि उनको घर में सब ‘किन्नी’ पुकारत थे, जो नाम उनको राज कपूर ने दिया था। राज कपूर का कहना था कि तबस्सुम बड़ा मुश्किल नाम है और इसलिए किन्नी नाम सही है। तबस्सुम को अपना नाम ‘किन्नी’ काफी पसंद था। ऐसे ही एक दिन तबस्सुम के घर राज कपूर आए और उनके पिता जी कहा कि मैं अपनी फिल्म ‘बरसात’ में एक नई लड़की लॉन्च कर रहा हूं, जिसका नाम नवाब बानो है। नवाब बानो बड़ा मुश्किल नाम है, इसलिए मैं उसका नाम ‘किन्नी’ रख रहा हूं। यह बात सुनते ही नन्हीं तबस्सुम दहाड़े मार कर रोने लगीं, तो तय हुई कि ‘किन्नी’ सिर्फ तबस्सुम का नाम रहेगा, नवाब बानो को ‘निम्मी’ नाम दिया जाएगा।

निम्मी की आखिरी फिल्म में भी थे कई ट्विस्ट
निम्मी की आखिरी फिल्म ‘लव एंड गॉड’ थी। इसमें पहले लीड रोल में गुरुदत्त को साइन किया गया था, लेकिन गुरुदत्त के असमय निधन के चलते इस रोल को संजीव कुमार को दिया गया। इस फिल्म का निर्देशन कर रहे के आसिफ का भी कुछ वक्त बाद निधन हो गया। जिसके बाद के आसिफ की पत्नी अख़्तर आसिफ ने डायरेक्टर के. सी. बोकाड़िया के साथ मिलकर जैसे-तैसे ‘लव एंड गॉड’ को पूरा किया और साल 1986 में इसे रिलीज कर दिया। गौरतलब है कि अभिनेत्री निम्मी कई बड़ी फ़िल्मों का हिस्सा रही जिसमें बरसात, दीदार, दाग, आन, उड़नखटोला, कुंदन, भाई-भाई और बसंत बहार शामिल हैं।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here