[ad_1]

केंद्र सरकार ने इस छमाही आरबीआई बॉन्ड  की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। जनवरी, 2021 से जून 2021 के लिए ब्याज दरें 7.15 फीसद की दर पर स्थिर रहेंगी। यह देश के प्रमुख सरकारी और प्राइवेट बैंकों की FD इंटरेस्ट रेट्स से 1 फीसदी ज्यादा है। बता दें सरकार की ओर से हर 6 महीनों पर ब्याज दरों की समीक्षा की जाती है.

उल्लेखनीय है इस समय देश के प्राइवेट और सरकारी बैंक ग्राहकों को 4 से 6 फीसद तक का ब्याज ही दे रहे हैं। जबकि आरबीआई बॉन्ड्स पर निवेशकों को 7.15 फीसद की दर से ब्याज मिल रहा है। निवेशकों को बांड पर किसी निश्चिच दर से ब्याज नहीं मिलता है बल्कि हर 6 महीने पर ब्याज दरों की समीक्षा की जाती है। इसको केंद्र की ओर से नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट के साथ जोड़ा गया है।

यह भी पढ़ें: FD पर वरिष्ठ नागरिकों को 8 फीसद तक ब्याज ऑफर कर रहे हैं ये बैंक

बता दें भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि नियामकीय राहतों को वापस लेने के साथ महामारी के कारण बही-खातों में संपत्ति का मूल्य घट सकता है, पूंजी की कमी हो सकती है। लेखांकन के स्तर पर उपलब्ध आंकड़े बैंकों में दबाव की सही तस्वीर नहीं बताते, बैंकों को पूंजी जुटाना चाहिए, कारोबार मॉडल में बदलाव लाने चाहिए। कोविड-19 संकट के कारण सरकार के बाजार उधारी कार्यक्रम के विस्तार से बैंकों पर अतिरिक्त दबाव पड़ा है।
 

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here