[ad_1]

आजकल के व्यस्त लाइफस्टाइल में अक्सर हम हेल्थ को नजरअंदाज कर देते हैं। हममें से ज्यादातर लोग हर साल नए साल पर एक हेल्दी लाइफस्टाइल संकल्प लेते हैं, लेकिन इसे बस कुछ ही दिन फॉलो करते हैं। ऐसे में हमारा स्मार्टफोन बड़े काम का साबित हो सकता है। आजकल स्मार्टफोन्स में कई ऐसे टूल्स और फीचर्स दिए जा रहे हैं जो फिटनेस ट्रैकिंग करते हैं और आपको स्वस्थ रहने में मदद करते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कुछ फीचर्स के बारे में बताने जा रहे हैं। 

एक्टिविटी करें ट्रैक : चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए जरूरी नहीं कि आप जिम ही जाएं। आप रोजाना वॉकिंग के जरिए भी स्वस्थ रह सकते हैं। हर दिन का एक टारगेट रखें कि आपको कितने कदम चलने हैं और इन्हें आप अपने स्मार्टफोन के जरिए ही काउंट कर सकते हैं। ऑनर, सैमसंग, ओप्पो और वनप्लस जैसी कंपनियों के स्मार्टफोन अपने ऑपरेटिंग सिस्टम में स्टेप काउंटर फीचर को देते हैं। सैमसंग फोन में आपको सैमसंग हेल्थ ऐप से इसे चालू करना होगा, जबकि ओप्पो में स्मार्ट असिस्टेंट के जरिए इसे चालू कर सकते हैं। इसके जरिए आप यह देख सकते हैं कि आप प्रतिदिन कितने कदम चले हैं। 

यह भी पढ़ें: WhatsApp पर ऐसे छिपाएं अपनी प्रोफाइल पिक्चर, कोई नहीं ले पायेगा स्क्रीनशॉट

डिजिटल वेलबींग: अक्सर हमें इस बात का एहसास नहीं होता कि हमने अपने फोन पर कितना समय व्यतीत किया। लंबे समय तक फोन का उपयोग करने का मतलब है कि उतनी देर कोई शारीरिक गतिविधी न करना। इससे मधुमेह और ह्रदय रोग जैसी अन्य बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए फोन में डिजिटल वेलबींग (Digital Wellbeing) का फीचर दिया जाता है, जो बताता है कि आपने किस एप को कितना इस्तेमाल किया। साथ ही इसके जरिए आप ऐप्स के लिए समय सीमा तय कर सकते हैं। इसमें एक फोकस मोड की भी है जिसे चालू करने पर यह सभी ऐप्स से नोटिफिकेशन आना बंद कर देता है जिससे आपका ध्यान ना भटके। 

गाइडेड ब्रीदिंग : सही ढंग से सांस लेने का स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इससे तनाव में कमी आती है, ब्लड प्रेशर घटता है और आपके ह्रदय की गति घटती है। सांस लेने की सही प्रक्रिया (Guided Breathing) के लिए ढेर सारे एप्स प्ले स्टोर पर मिल जाएंगे। वहीं ओप्पो के ColoOS ऑपरेटिंग सिस्टम में यह फीचर प्री-लोडेड मिलता है। इसके लिए आपको ओप्पो रिलैक्स एप लॉन्च करना होगा, और ब्रीदिंग सेक्शन में जाना होगा। यहां से आपको ऑनस्क्रीन निर्देश का पालन करना होता है जो आपको सांस लेना और सांस छोड़ना बताता है। 

यह भी पढ़ें: मैसेज पढ़ते ही हो जाएगा गायब, इंस्टाग्राम और मैसेंजर के लिए कमाल की ट्रिक

बेडटाइम मोड : यह फीचर भी लगभग सभी एंड्रायड स्मार्टफोन्स में उपलब्ध है। हममें से अधिकतर को सोने से पहले अपना स्मार्टफोन देखने की आदत होती है। यह हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करता है क्योंकि सोते समय फोन का इस्तेमाल करने से थकावट आती है और नींद में खलल पैदा होता है। आप सेटिंग्स में जाकर डिजिटल वेलबींग को क्लिक करें। यहां आपको Bedtime Mode (कुछ फोन्स में Wind down Mode) को सेट कर सकते हैं। एक बार चालू होने पर यह आपके फोन की स्क्रीन ग्रेस्केल में तब्दील कर देता है, जिससे आंखों पर जोर नहीं पड़ता और साथ ही यह फोन पर आने वाले सभी नोटिफिकेशन को म्यूट कर देता है ताकि आप चैन की नींद ले सकें। 

व्हाइट नॉइस जेनरेटर : व्हाइट नॉइस जेनरेटर (White Noise Generator) फीचर के जरिए आपको नैचुरल साउंड उपलब्ध कराया जाता है। इससे आपके दिमाग को शांति मिलती है और आप गहरी नींद में सो जाते हैं, जिससे आपको पूरे स्वास्थ्य में सुधार आता है। यह फीचर अब कई स्मार्टफोन्स में आने लग गया है। हालांकि आग आप ओप्पो स्मार्टफोन यूजर हैं तो यह फीचर ओप्पो रिलैक्स ऐप में ही मिल जाएगा। आप अलग-अलग बैकग्राउंड साउंड को चुन सकते हैं, जैसे- जंगल, सीशोर, स्टॉर्मी नाइट आदि। 

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here