[ad_1]

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की बॉर्डर-गावस्कर सीरीज का आखिरी और निर्णायक मैच ब्रिसबेन के गाबा मैदान पर शुक्रवार से खेला जाना है। अगर ऑस्ट्रेलिया इस मैच में जीत दर्ज करेगा, वह सीरीज जीतने के साथ-साथ आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर-1 की कुर्सी पर भी बैठ जाएगा। भारत और ऑस्ट्रेलिया 1-1 की बराबरी के साथ चौथा टेस्ट खेलने उतरेंगी। ऑस्ट्रेलिया ने एडिलेड में पहला टेस्ट आठ विकेट से जीता था जबकि भारत ने मेलबर्न में दूसरा टेस्ट आठ विकेट से जीतकर सीरीज में बराबरी हासिल की। सिडनी में तीसरा टेस्ट ड्रा पर खत्म हुआ और अब सीरीज का फैसला ब्रिसबेन में होगा।

अगर भारत ब्रिसबेन टेस्ट को जीतता है या ड्रॉ खेलता है तो वह बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी अपने पास बरकरार रखेगा, क्योंकि भारत ने 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया से पिछली सीरीज 2-1 से जीती थी। अगर ऑस्ट्रेलिया सीरीज जीतता है तो वह आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में फिर से नंबर एक पोजीशन पर पहुंच जाएगा। अगर भारत ने चौथा टेस्ट जीता या सीरीज 1-1 से बराबर रही तो न्यूजीलैंड नंबर-1 बना रहेगा। मौजूदा रैंकिंग में न्यूजीलैंड 118 प्वॉइंट्स के साथ पहले, ऑस्ट्रेलिया 116 प्वॉइंट्स के साथ दूसरे और भारत 114 प्वॉइंट्स के साथ तीसरे स्थान पर है।

AUSvIND: 4th टेस्ट से पहले वसीम जाफर ने टीम इंडिया को दी खास नसीहत

चोटिल खिलाड़ियों की समस्या से जूझ रही है टीम इंडिया

भारत इस टेस्ट से पहले अपने चोटिल खिलाड़ियों की समस्या से जूझ रहा है और उसने ब्रिसबेन टेस्ट के लिए अपनी प्लेइंग इलेवन घोषित नहीं की है, जबकि ऑस्ट्रेलिया ने अपनी प्लेइंग इलेवन घोषित कर दी है और टीम में एक बदलाव किया है। मार्कस हैरिस को चोटिल विल पुकोवस्की की जगह टीम में शामिल किया है। पुकोवस्की कंधे की चोट के कारण इस टेस्ट से बाहर हो गए हैं। भारत को अगर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज जीतनी है, तो उसे ब्रिसबेन मैदान में अपना इतिहास बदलना होगा। इस मैदान पर भारत कभी टेस्ट मैच नहीं जीत पाया है। ब्रिसबेन का मैदान ऑस्ट्रेलिया का अजेय किला माना जाता है जहां उसने पिछले 33 सालों में कभी हार का सामना नहीं किया है और वह इस मैदान पर भारत से कभी नहीं हारा है। ऑस्ट्रेलिया ने ब्रिसबेन में पिछले सात टेस्ट लगातार जीते हैं।

ऑस्ट्रेलिया को ब्रिसबेन में आखिरी बार हार नवम्बर 1988 में मिली थी जब उसे वेस्ट इंडीज ने नौ विकेट से हराया था। भारत ने ब्रिसबेन में छह टेस्ट खेले हैं जिसमें पांच में उसे हार मिली है और 2003 में खेला गया टेस्ट ड्रॉ रहा था। भारत इस सीरीज के पहले तीन टेस्ट मैचों में मैच से एक दिन पहले प्लेइंग इलेवन घोषित करता आया था, लेकिन चौथे टेस्ट के एक दिन पहले तक उसने अपनी प्लेइंग इलेवन घोषित नहीं की है। भारत मैच की सुबह तक अपने खिलाड़ियों की फिटनेस पर आखिरी रिपोर्ट का इंतजार करेगा और उसके बाद वह अपनी प्लेइंग इलेवन की घोषणा करेगा।

प्लेइंग इलेवन को लेकर करनी पड़ेगी माथापच्ची

भारत को अपने प्लेइंग इलेवन में रवींद्र जडेजा और हनुमा विहारी के विकल्प ढूंढने होंगे। दोनों इस मैच से बाहर हो गए हैं। जडेजा के बाएं हाथ का अंगूठा टूट गया है जबकि हनुमा को हैमस्ट्रिंग चोट है। टीम के शीर्ष तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की फिटनेस को लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। उनके पेट में खिंचाव है। अगर बुमराह फिट नहीं होते हैं तो शादुर्ल ठाकुर या टी नटराजन में से किसी एक को चुना जा सकता है। ठाकुर ने भारत के लिए एकमात्र टेस्ट 2018 में खेला था जबकि बाएं हाथ के तेज गेंदबाज नटराजन को अभी अपना टेस्ट डेब्यू करना है।

AUSvIND: 4th टेस्ट से पहले टीम इंडिया ने फील्डिंग की जमकर की प्रैक्टिस

कुलदीप खेलेंगे या नहीं, फैसला होगा मैच से पहले

अगर स्पिन डिपार्टमेंट को देखा जाए तो जडेजा बाहर हो चुके हैं, अश्विन को पसलियों में चोट है और टीम के पास चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव बचते हैं। कुलदीप ने इस दौरे में अब तक कोई टेस्ट नहीं खेला है। अगर अश्विन फिट हो जाते हैं तो भारत आश्विन और कुलदीप दोनों के साथ खेल सकता है। हनुमा विहारी के बाहर हो जाने के बाद भारत अपने दोनों विकेटकीपर ऋषभ पंत और रिद्धिमान साहा को इस मुकाबले में उतार सकता है जिसमें पंत स्पेशलिस्ट बल्लेबाज के तौर पर उतर सकते हैं और साहा विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। भारत अगर पंत को विकेटकीपर के तौर पर उतारता है तो वह मयंक अग्रवाल को हनुमा की जगह उतार सकता है।

ब्रिसबेन की पिच और मौसम का मिजाज

ब्रिसबेन के गाबा की पिच अपनी तेजी और उछाल के लिए जानी जाती है लेकिन इस सीजन में कोई क्रिकेट नहीं होने के कारण पिच को लेकर अभी कुछ स्पष्ट नहीं कहा जा सकता कि यह कैसा व्यवहार करेगी। इस मैच के लिए मौसम की भविष्यवाणी के अनुसार पहले दिन मौसम साफ़ रहेगा जबकि शनिवार को दूसरे दिन तेज हवाएं चलेंगी और शेष तीन दिन बारिश होने की आशंका है।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here