[ad_1]

इंटरनैशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने रविवार को सिडनी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट के दौरान दर्शकों द्वारा भारतीय खिलाड़ियों के खिलाफ नस्ली दुर्व्यवहार की घटनाओं की निंदा की और मेजबान देश के क्रिकेट बोर्ड से कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी। 

IND vs AUS: टीम इंडिया का रिव्यू रिटेन होने पर आकाश चोपड़ा ने DRS को लेकर उठाए सवाल

रविवार को चौथे दिन के दूसरे सत्र के दौरान भारतीय खिलाड़ी मैदान के बीच में एकत्रित हो गए जब स्क्वायर लेग बाउंड्री पर खड़े सिराज ने अपशब्द कहे जाने की शिकायत की। इसके बाद सुरक्षाकर्मी दर्शक दीर्घा में गए और अपशब्द कहने वाले व्यक्ति को ढूंढने लगे और फिर दर्शकों के एक समूह को स्टैंड से जाने को कहा गया। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने इस पर माफी मांगी। 

IND vs AUS: भारतीय खिलाड़ियों पर फिर नस्लभेदी टिप्पणी से लेकर स्टीव स्मिथ और लाबुशेन की शतकीय साझेदारी तक, जानें सिडनी टेस्ट के चौथे दिन की पांच बड़ी बातें
    
आईसीसी से जारी बयान में कहा गया, ‘इंटरनैशनल क्रिकेट काउंसिल सिडनी क्रिकेट मैदान में ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच चल रहे तीसरे टेस्ट मैच के दौरान नस्लवाद की घटनाओं की कड़ी निंदा करता है और इसकी जांच में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को सभी आवश्यक समर्थन देने की पेशकश करता है।’

IND vs AUS: आर अश्विन का बड़ा बयान, कहा- सिडनी में पहले भी कर चुके हैं नस्लवाद का सामना

आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मनु साहनी ने इस बात को दोहराया कि आईसीसी किसी भी तरह के भेदभाव के प्रति जीरो-टाॅलरेंस  की नीति अपनाता है।उन्होंने कहा, ‘हमारे खेल में भेदभाव के लिए कोई जगह नहीं है और हम अविश्वसनीय रूप से निराश हैं’ उन्होंने कहा, ‘हमारे पास एक व्यापक भेदभाव-रोधी नीति है, जिसका सदस्यों को पालन करने के साथ यह भी सुनिश्चित करना है कि प्रशंसकों द्वारा इसका पालन किया जाए। हम मैदान के अधिकारियों और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया द्वारा की गई कार्रवाई का स्वागत करते हैं।’
    

 

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here