[ad_1]

प्रसाद सान्याल, नई दिल्ली 

नए साल पर नई कार? ऐसा नहीं है। यह कार ना तो नई है और ना ही पुरानी है। यह 2020 की एक ऐसी कार है, जिसकी कीमत के कारण मुझे इसमें दिलचस्पी पैदा हुई।

अगर हम लग्जरी लिमोज़ीन की बात करते हैं तो वे कौन से नाम हैं जो सबसे पहले आपके दिमाग में आएंगे? मर्सिडीज एस-क्लास, ऑडी ए8, बीएमडब्ल्यू 7 सीरीज या हो सकता है बेंटले या रॉल्स रॉयस? ये सभी जर्मन या ब्रिटिश कार मेकर कंपनियां हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि एक जापानी कारमेकर Lexus LS 500h को करीब 2 करोड़ रुपये की कीमत पर क्यों लेकर आई। यह कीमत मर्सिडीज एस क्लास नहीं, S-Class Maybach के जितनी है।

लेक्सस जापानी कार मेकर कंपनी टोयोटा का लग्जरी डिविजन है। जाहिर तौर पर, लेक्सस लगभग तीन दशक पुराना ब्रैंड है लेकिन भारत में टोयोटा एक ज्यादा पॉप्युलर नाम है।

lexus ls 500h

एक्सटीरियर
इस कार के आते ही मेरे मन में पहला सवाल था- इसे कहां पार्क करें? यह काफी लंबी कार है। इसकी लंबाई 5 मीटर से भी ज्यादा है। डायमेंशंस की बात करें तो कार की लंबाई 5235 mm, चौड़ाई 1900 mm और ऊंचाई 1450 mm है। जिन जर्मन कारों से इसका मुकाबले है उनके सामने Lexus ज्यादा स्पोर्टी नजर आती है। जब आप Lexus की फ्लैगशिप सेडान LS 500h को देखेंगे तो आपको लगेगा कि जर्मनी के कार डिजाइनर्स अवसाद से गुजर रहे हैं। इसकी तुलना में जर्मन कार उतनी आकर्षक नहीं लगती।

कार के फ्रंट हिस्से से जाहिर तौर पर इसका बेस्ट लुक निखरकर आता है। आगे की तरफ बड़ी स्पिन्डल ग्रिल दी गई है, जो पूरे फ्रंट फेस पर फैली है। इसमें जेड-शेप वाले मैट्रिक्स LED हेडलैंप्स दिए गए हैं, जो कार के ओवरऑल लुक को और बेहतर बना देते हैं। साइड प्रोफाइल में आपको 20 इंच के अलॉय दिए गए हैं। अपने कॉम्पिटिटर्स के मुकाबले यह कार थोड़ी नीची नजर आती है। इसका 6-विंडो डिजाइन मुझे काफी आकर्षक लगा। कार के दोनों रियर विंडोज के पीछे दो और विंडोज (छोटे) दिए गए हैं, जिन पर क्रोम की एक पट्टी भी लगी है। कार का रियर डिजाइन भी बढ़िया है। यह फ्रंट जितना अग्रेसिव तो नहीं है, हालांकि क्रोम के इस्तेमाल से शानदार नजर आता है।

48 घंटों में जितना भी मैंने इसे चलाया है, उससे यह बात जरूर साबित होती है कि कार को लोग मुड़कर देखते हैं।

इंजन
कार में 3.5 लीटर V6 पेट्रोल इंजन मिलता है जो  एक इलेक्ट्रिक पावर यूनिट के साथ जुड़ा हुआ है। इंजन 359 hp और 350 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। कंपनी दावा करती है कि कार 0 से 100 kmph की स्पीड 5.6 सेकेंड्स में पा लेती है। यह आंकड़े ऑन पेपर तो बढ़िया हैं लेकिन जब आप कार की रफ्तार बढ़ाते हैं तो यह थोड़ी आवाज करती है। और ऐसा शायद इसलिए क्योंकि यह कार बहुत तेज रफ्तार के लिए नहीं बनी।

सबसे सख्त सस्पेंशन सेटिंग और स्पोर्ट्स मोड के बावजूद Lexus LH 500h अपनी कॉम्पिटिटर्स, जैसे- BMW 7 सीरीज जितनी मजेदार नहीं लगती (मैंने मर्सिडीज S-Class या Maybach नहीं चलाई, इसलिए उनसे तुलना नहीं कर रहा)।

इस कार में पेट्रोल इंजन को 4-स्पीड ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन के साथ जोड़ा गया है, जबकि रियर व्हील को पावर देने वाली दो इलेक्ट्रिक मोटर्स 6-स्पीड CVT के साथ आती हैं। इस तरह कार में 10-स्पीड ट्रांसमिशन मिल जाता है और CVT में पाया जाने वाला रबर बैंड इफेक्ट भी कम होता है। हालांकि यह शायद उन्हें मजेदार ना लगे जिन्होंने BMW Steptronic या Audi DSG गियरबॉक्स का इस्तेमाल किया है।

पॉजिटिव साइड की बात करें तो इतनी बड़ी होने के बावजूद Lexus की इस कार का साइज फील नहीं होता है। ड्राइव मोड्स बदलने का इंपेक्ट भी सिर्फ सस्पेंशन ही नहीं, स्टीयरिंग में भी तुरंत ही फील होने लगता है। आप इस कार में वीकेंड ड्राइव का मजा ले सकते हैं।

इंटीरियर
कार का इंटीरियर ओमोटेनाशी (अतिथि देवो भव: का जापानी संस्करण) पर आधारित है। यह दर्शाता है जापानी मेजबान किस तरह डीटेल्स पर काम करते हैं और अपने मेहमानों की जरूरतों का ध्यान रखते हैं। इसका एक उदाहरण यह है कि जब आप कार के भीतर जाने के लिए इसका दरवाजा खोलते हैं तो एयर सस्पेंशन कार को ऊपर उठा देता है जिससे आप आसानी से बैठ सकें। इसके बाद सीट बेल्ट होल्डर ऑटोमैटिकली ऊपर आ जाता है, जिससे आप बेल्ट लगा सकें। और आखिर में स्टीयरिंग भी ड्राइविंग लायक एक बेहतर पोजिशन में आ जाता है।

इसमें 4-जोन क्लाइमेट कंट्रोल के अलावा climate concierge का फीचर भी दिया गया है जो ड्राइवर और सभी पैसेंजर्स के बॉडी टेंपरेचर को कैलकुलेट करके अडजेस्टमेंट  करता है। कार का केबिन जापानी आर्टवर्क ताकूमी क्राफ्टमैनशिफ्ट (Takumi craftsmanship) को दर्शाता है और इसमें काफी हैंडवर्क देखने को मिलता है। इसका फ्लोइंग डैशबोर्ड लेदर से रैप्ड है और काफी कोशिश के बाद भी मुझे सिलाई में एक भी कमी नजर नहीं आई। इसके डोर पैनल्स पर जापान की ओरिगामी आर्ट (Origami) और ग्लास को हाथ से काटकर बनाया गया पैटर्न (Kiriko) नजर आता है।

हालांकि, इन दिनों कार में एंड्रॉयड ऑटो और एप्पल कारप्ले सपोर्ट ना मिलना थोड़ा अजीब लगता है। इस कार के लिए Lexus app डाउनलोड करने की सलाह दी जाती है, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया। एक और कमी यह नजर आती है कि कार में 12.3 इंच का इंफोटेनमेंट सिस्टम मिलता है, लेकिन इसमें टचस्क्रीन सपोर्ट नहीं मिलता। इसे कंट्रोल करने के लिए एक लैपटॉप जैसा ट्रैक पैड दिया गया है। इस ट्रैक पैड को इस्तेमाल करना थोड़ा मुश्किल तो है ही, साथ ही ड्राइव करते समय तो इसे ऑपरेट करने के बारे में सोच भी नहीं सकते।

जब आप रियर सीट पर पहुंचते हैं तब आपको Lexus की इस कार के असल मायने समझ आते हैं। Lexus LS 500h में आप पीछे बैठकर सफर करना ज्यादा पसंद करेंगे। इसकी बैकसीट्स 50 डिग्री तक रिक्लाइन और 22 तरह से अडजस्ट हो जाती है। पीछे की सीट्स में वर्चुअली भी कोई कमी नजर नहीं आएगी। यहां दिए गए सेंट्रल टच कंसोल के जरिए आप लाइट्स, शेड्स, सीट में दिया गया मसाजर, म्यूजिक या वीडियो के लिए एंटरटेनमेंट पैनल्स (इसमें Blu Ray प्लेयर दिया गया है) कंट्रोल कर पाते हैं।

इसमें 23 स्पीकर्स वाला Mark Levinson सराउंड सिस्टम दिया गया है, जो अंदर आने वाली नॉइस को कैंसिल करता है और किसी भी म्यूजिक लवर को पसंद आने वाली साउंड क्वालिटी देता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि रियर हैंड रेस्ट को ऊपर करके तीसरे व्यक्ति के लिए सीट तैयार की जा सकती है, लेकिन तीन लोगों के लिए पीछे बैठना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

हमारा फैसला
Lexus LS 500h लग्जरी लिमोजीन लाइनअप में अलग नजर आती है। कार की रियर सीट ऐसी है जहां आप दिनभर की थकान के बाद आराम महसूस करेंगे। हालांकि यह चलाने में उतनी मजेदार नहीं है और कीमत को देखा जाए तो इसे बेस्ट परफॉर्मेंस कार नहीं कहा जाएगा। यह कार उन लोगों के लिए है जो पीछे बैठना ज्यादा पसंद करते हैं। लेकिन अगर आपको ड्राइविंग पसंद है तो दूसरे ऑप्शन्स पर जाना बेहतर होगा। 

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here