[ad_1]

डिजिटल तरीके से पैसे की लेनदेन की सुविधा उपलब्ध कराने वाली कंपनी MobiKwik की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। कंपनी पर आरोप लगा है कि उसने 110 मिलियन उपयोगकर्ताओं के डेटा को लीक किया है। जिसके बाद भारतीय रिज़र्व बैंक ने तत्काल इस मामले में आरोपों की जांच करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही RBI ने चेतावनी दी है कि यदि कंपनी में खामियां पाई जाती हैं, तो उन्हें जुर्माना का सामना करना पड़ेगा। 

MobiKwik ने इस सप्ताह लगातार कई बार डेटा लीक होने के आरोपों का सामना किया है। कई यूजर्स ने इस बात की शिकायत भी की है लेकिन कंपनी लगातार डेटा लीक होने से इनकार कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सूत्रों ने बताया कि, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) कंपनी की शुरुआती प्रतिक्रिया से खुश नहीं था और उसने इस मामले में तत्काल एक्शन लेने के लिए कहा है। 
 

बता दें कि, मोबिक्विक को सिक्योरिटी रिसर्चर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी देने के लिए बैकलैश का भी सामना करना पड़ा है। कई उपयोगकर्ताओं ने इस सप्ताह बीच शिकायत की है कि उनके क्रेडिट कार्ड जैसे डिटेल्स लीक हो गए हैं, जो कि कथित तौर पर मोबिक्विक से संबंधित थें। हालांकि कंपनी ने इस आरोप से इनकार किया है। 

Must Read: आ रहे सैमसंग के 2 दमदार स्मार्टफोन, इस तारीख को होंगे लॉन्च

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार RBI ने मोबिक्विक को फोरेंसिक ऑडिट कराने के लिए एक बाहरी ऑडिटर नियुक्त करने का आदेश दिया है। इस मामले में यदि उल्लंघन साबित होता है तो जुर्माना भी लगाया जा सकता है। हालांकि इस मामले में आरबीआई ने किसी तरह की कोई टिप्पणी नहीं की है। आरबीआई के पास ऐसे मामलों में भुगतान प्रणाली प्रदाता कंपनी को न्यूनतम 500,000 रुपये ($ 6,811) का जुर्माना लगाने की पावर है। 

वहीं इस मामले में MobiKwik ने मीडिया को किसी भी तरह का जवाब नहीं दिया है। इससे पहले कंपनी ने कहा था कि, यूजर्स कई अलग अलग प्लेटफार्मों पर अपना डेटा अपलोड करते हैं। इसलिए यह कहना गलत है कि जो भी डेटा लीक हुआ है वो पेमेंट कंपनी द्वारा किया गया है। कंपनी ने ये भी कहा था कि, वो यूजर्स की गोपनीयता और सुरक्षा को बहुत गंभीरता से लेती है।

Must Read: स्मार्टफोन को बिना Flight Mode में डाले, ऐसे रोकें इनकमिंग कॉल, जानें आसान तरीके

MobiKwik देश में 120 मिलियन यूजर्स के साथ Paytm और Google पेमेंट सर्विस प्रदाता जैसी कंपनियों को टक्कर देती है। देश में डेटा का लीक होना आम बात हो गई है। बीते बुधवार को नई दिल्ली स्थित डिजिटल राइट्स ग्रुप इंटरनेट फ्रीडम फाउंडेशन (IFF) ने देश की साइबर सुरक्षा एजेंसी को कथित डेटा उल्लंघन की जांच करने के लिए कहा है।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here